सर्च
×

साइन अप

Use your Facebook account for quick registration

OR

Create a Shvoong account from scratch

Already a Member? साइन इन!
×

साइन इन

Sign in using your Facebook account

OR

Not a Member? साइन अप!
×

साइन अप

Use your Facebook account for quick registration

OR

साइन इन

Sign in using your Facebook account

श्वूंग होम>औषधि & स्वास्थ्य>Diet & Exercise>घर पर मेडिटेशन कैसे करें

घर पर मेडिटेशन कैसे करें

द्वारा: pratima avasthi    
ª
 
घर पर मेडिटेशन कैसे करें

मेडिटेश की खोज तब से हुई जब शरीर के साथ साथ मानव मन में कई गड़बड़ी को हल करने पर विचार किया और यह व्यापक रूप से स्वीकार किए जाता हैं और सराहा भी गया है। घर में मेडिटेशन एक योग विशेषज्ञ द्वारा सिखाये जाने के अपने परंपरागत दृष्टिकोण में अधिक महत्वपूर्ण है। घर पर मेडिटेशन लोगो के लिए सबसे अच्छा सहारा है जो लोग योगा विशेषज्ञ से मेडिटेश की तकनीको को सीखने में सक्षम नही हो सकते है।

घर पर बिना प्रशिक्षक के कैसे मेडिटेशन कर सकते है?

मेडिटेश तकनीकों के कई प्रकार है जो स्वयं निर्देशों का स्वयं निर्धारित कर, अपने चिकित्सकों से एक प्रभावी समाधान प्रदान करते हैं। हालांकि, आप अपने अनुसार समय तय कर सकते है। मेडिटेशन की अवधि आपके चयन पर निर्भऱ करता है। घर पर मेडिटेशन के सबसे आधारभूत स्तर के लिए, निम्न चरण का पालन करेंः

पहला चरण

घर पर मेडिटेशन शुरू करने के लिए, आप एक जगह निश्चित करे जो कि शांतिपूर्ण और निर्मल होनी चाहिए। शोर और प्रदूषण का न होना बहुत महत्वपूर्ण है जिस समय आप मेडिटेशन के लिए बैठते हैं।

दूसरा चरण

सीधा बैठने की कोशिश करो हैं और जहां तक संभव हो अपनी रीढ़ को बिना अपने शरीर पर दबाव डाले, सुविधानुसार सीधा रखे। आप या तो बिस्तर पर या एक फर्श पर बिछे कालीन पर या एक कुर्सी को बैठने के लिए चुन सकते है। मेडिटेशन के लिए सामान्य स्थिति के चौकड़ी लगाकर बैठना है लेकिन यदि यह असुविधाजनक है, तो आप अपने पैरों को फैलाने के साथ या एक स्थिति जिसमें आप अत्यंत आराम और सुविधा महसूस करें, बैठने के लिए चुन सकते हैं। मेडिटेशन तकनीक का प्रभाव अत्यधिक रूप से सुविधा के स्तर पर निर्भर करता है।

तीसरा चरण

आपके मन में एक विशिष्ट वस्तु की कल्पना करना शुरू करें और खुद के रूप में वस्तु पर विचार करने की कोशिश करें। अपने आप वस्तु का आकार, रंग और बनावट में कल्पना करने की कौशिश करे. ऐसा करने में, आप आराम और शांतिं महसूस करना शुरू करेंगे। यदि दृश्य स्वाभाविक रूप से नहीं आते है, अपने आप को सोचने के लिए मजबूर न करें जिससे कि आपका मन सहज न हो। आप आप के आसपास कुछ चीजों पर साधारण रूप से एकाग्रता करना शुरू करें और धीरे - धीरे वस्तु में खुद को देखना शुरू कर सकते है।

चौथा चरण

यह संभव है कि जब एक वस्तु पर ध्यान केंद्रित करें, आप स्वयं हर रोज की स्थितियों को लेकर अन्य मुद्दों के बीच उतार चढ़ाव हो सकता है। ऐसी परिस्थिति में, आप अपने सांस लेने के तरीके(पैटर्न) पर अपना ध्यान आकर्षित करना चाहिए। गहरी साँस लेने की कोशिश करें और पूरी तरह से साँस छोड़े। सुनिश्चित करें कि आप अपने सांस लेने के तरीके पर अपनी एकाग्रता को विकसित करते हैं और धीरे - धीरे अपने आप को एक वस्तु के रूप में देखने का वापस प्रयास करें।

पाचवां चरण

अपने सांस लेने के तरीके की गति को बढ़ाने की कौशिश करें और अपने पेट को संकुचित करने और फैलाने की कोशिश करें। आप को निश्चित रूप से मदद मिलेगी कि आपका मन स्थिर है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस तरह के मेडिटेशन तकनीक का चयन करते है, उपर्युक्त बुनियादी अभ्यास के चरण की मदद से आप आसानी से जटिलता को समझ सकते है।
प्रकाशन तिथि: 25 जनवरी, 2012   
कृपया इस सार का मूल्यांकन करें : 1 2 3 4 5
अनुवदा करें भेजें Link प्रिंट

New on Shvoong!

Top Websites Reviews

  1. 1. मनीष

    ध्यान

    कृपया www.vishvas.org पर ध्यान के बारे में सही जानकारी लें

    0 स्तर 30 सितम्बर 2012
X

.