सर्च
×

साइन अप

Use your Facebook account for quick registration

OR

Create a Shvoong account from scratch

Already a Member? साइन इन!
×

साइन इन

Sign in using your Facebook account

OR

Not a Member? साइन अप!
×

साइन अप

Use your Facebook account for quick registration

OR

साइन इन

Sign in using your Facebook account

श्वूंग होम>इंटरनेट & प्रौद्योगिकी>कुरान नेट पर अब हिन्‍दी में

कुरान नेट पर अब हिन्‍दी में

द्वारा: Taptilok    
ª
निम्नलिखित भाषा से यह संक्षिप्त लेख अनूदित हुआ Quran In Hindi On Net
 
कुरान नेट पर अब हिन्‍दी में दुनिया भर के मुसलमान मानते हैं कि अल कुरान पवित्र प्रगटीकरण है और जीवन के हर मर्रा के काम में वह मुसलमानों के लिये मार्गदर्शन के लिये मुख्‍य स्‍त्रोत समान है। यह ध्‍यान रखना होगा कि विवेक की यह पुस्‍तक अरबी भाषा में सर्वप्रथम प्रगट की गई। वैसे तो हर मुसलमान दिन भर में पांच बार नमाज पढते समय अरबी भाषा में कुरान को याद करता है। परंतु यह भी तथ्‍य है कि प्रत्‍येक मुसलमान अरबी भाषा में कुरान को पूर्ण रूप से समझने में असमर्थ है। वैसे तो मुसलमान नमाज अदा करने और अन्‍य विधियों को पूरा करने के लिये कुरान को अरबी भाषा में कंठस्‍थ कर लेते हैं। मुसलमानों के उपरांत, अन्‍य धर्मों के लोग भी कुरान को पढना चाहते हैं, जिसे मुसलमान ज्ञान की पुस्‍तक करार देते हैं। परंतु लोग अरबी भाषा के ज्ञान की अभाव में अल्‍लाह की सीखों, पवित्र मार्गदर्शन और ज्ञान से मरहूम रह जाते हैं। साथ ही लोगों के लिये जो अन्‍य धर्मो से हैं और गैर अरबी हैं, उनके लिये केवल पवित्र पुस्‍तक उदाहरण स्‍वरूप अल कुरान को पढने के लिये अरबी भाषा सीखना भी असंभव है। वैसे दुनिया भर में मुसलमानों ने कुरान को अलग अलग भाषाओं में उपलब्‍ध कराया है। भारत में भी समान प्रयास किया गया है। भारत सौ करोड से भी अधिक की आबादी वाला देश है और यहां की राष्‍ट्रभाषा हिन्‍दी है। इसके उपरांत, कुछ असामाजिक तत्‍वों और सांप्रदायिक ताकतों ने इस्‍लाम और कुरान के खिलाफ आवाज बुलंद की है। कुछ लोगों ने कुरान पर पाबंदी लगाने के लिये न्‍यायिक दखल की पहल भी की है, क्‍योंकि वे सोचते हैं कि पुस्‍तक समाज में बैरभाव और वैमनस्‍य फेलाती है। मासूम लोग इस प्रकार के बहकावे में आ जाते हैं। ऐसे में लोगों के लिये यह जरूरी हो गया है कि वे कुरान को समझें। दिल्‍ली स्थित संस्‍था, मधुर संदेश संगम ने हिन्‍दी में अल कुरान की सुंदर वेइसाईट तैयार की है। वेबसाईट उपयोग करने के लिये बडी सरल और आसान है। मूल पाठ अरबी भाषा में है और उसके अर्थ हिन्‍दी में दिये गये हैं। उपयोग में ली गई भाषा भी बडी सरल और समझने में आसान है। नेवीगेशन बार में पवित्र कुरान के सभी 114 सुराह यानि अध्‍याय दिये गये हैं। कुरानहिन्‍दी डोट कॉम मधुर संदेश संगम का एक उल्‍लेखनीय प्रयास है। भाषांतर की सेवा प्रख्‍यात मुस्लिम विद़वान मौलाना फारूक अहमद खान और वरिष्‍ट पत्रकार और इस्‍लाम के जानकार डॉ मोहम्‍मद अहमद ने प्रदान की है। http://www.
quranhindi.com/ पढने के लिये बहुउपयोगी वेइसाईट है जिनको इस्‍लाम और कुरान के बारे में जानने की उत्‍सुकता है।
प्रकाशन तिथि: 03 सितम्बर, 2006   
कृपया इस सार का मूल्यांकन करें : 1 2 3 4 5
अनुवदा करें भेजें Link प्रिंट

New on Shvoong!

Top Websites Reviews

  1. 3. manzi khan

    kuran sarif

    kuran sarif tilavat

    4 स्तर 07 अगस्त 2011
  2. 2. Mohd.Masrurl Haque

    correction

    in 6th line the word"mrhoom"is wrongly spelt correct is"mahroom.

    0 स्तर 20 मार्च 2011
  3. 1. yogendra nath dixit

    kuran bhasha

    sri man ji yah achchhi khabar hai aakhir har aadami ko har majahab ke bare me gyan prapt karana chahiye jisase samaj me faili bhrantiyan dur hoti hai arganikbhagyoday .blogspot.com

    1 स्तर 05 अगस्त 2010
X

.